हरियाणा में रहेगी या जाएगी सैनी सरकार? ये कारक तय करेंगे

0
Share

 

हरियाणा में नायब सिंह सैनी के नेतृत्व वाली बीजेपी सरकार संकट में है. मंगलवार को तीन निर्दलीय विधायकों के समर्थन वापस लेने के बाद सरकार अल्पमत में आ गई है. जिन तीन निर्दलीय विधायकों ने अपना समर्थन वापस लिया है उनमें रणधीर गोलन, धर्मपाल गौंडर और सोमवीर सांगवान शामिल हैं. तीनों विधायकों ने कहा है कि वे सरकार से खुश नहीं हैं और इसलिए अपना समर्थन वापस ले रहे हैं.

तीन विधायकों के समर्थन वापस लेने के बाद सैनी सरकार सवालों के घेरे में आ गई है. सरकार सीधे तौर पर अल्पमत में है. हरियाणा विधानसभा सीटों का गणित कहता है कि एक सत्ताधारी दल के पास कम से कम 45 विधायक होने चाहिए. फिलहाल सैनी सरकार के पास कुल 43 विधायक हैं. इनमें अकेले बीजेपी के 40 विधायक हैं, जबकि हरियाणा लोकहित पार्टी (एचएलपी) के विधायक गोपाल कांडा और दो निर्दलीय विधायक भी हैं. सैनी को अपना पद बरकरार रखने के लिए अभी भी दो विधायकों की जरूरत है.

असेंबली गणित क्या है?

अब नजर डालते हैं हरियाणा विधानसभा के मौजूदा हालात पर. 90 विधायकों वाले सदन में फिलहाल 88 विधायक हैं. इनमें से 40 विधायक बीजेपी से, 30 कांग्रेस से, 10 जेजेपी से, एक इनलो से और एक हरियाणा लोकहित पार्टी से हैं. राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और रणजीत चौटाला पहले ही इस्तीफा दे चुके हैं. ये दोनों नेता लोकसभा चुनाव के लिए मैदान में हैं. इस तरह देखा जाए तो विधानसभा की दो सीटें खाली हैं. इनमें करनाल विधानसभा सीट पर 25 मई को उपचुनाव भी होने वाला है.

अगर करनाल में सैनी जीते तो…

विधानसभा में बीजेपी के अपने 40 विधायक हैं जबकि बाकी तीन निर्दलीय और एक एचएलपी विधायक भी समर्थित हैं. इस तरह देखा जाए तो बीजेपी को पूर्ण बहुमत साबित करने के लिए सिर्फ एक विधायक की जरूरत है. ऐसे में अगर नायब सिंह सैनी करनाल में होने वाले विधानसभा चुनाव में जीत हासिल करते हैं तो बीजेपी को ज्यादा हंगामा करने की जरूरत नहीं पड़ेगी. अगर सैनी चुनाव हार गए तो समस्या खड़ी हो जाएगी. ऐसे में बीजेपी को सरकार बचाने के लिए किसी भी कीमत पर एक विधायक की जरूरत होगी.

JJP के असंतुष्ट विधायक दे सकते हैं समर्थन!

खबर ये भी है कि जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के 10 में से 6-7 विधायक अपने नेतृत्व से नाखुश हैं. बताया जा रहा है कि वह बीजेपी के भी संपर्क में हैं. अगर जेजेजी के असंतुष्ट विधायक सैनी सरकार को समर्थन देते हैं तो ऐसी स्थिति में भी मौजूदा सरकार बची रहेगी. विधानसभा मतदान के मामले में, असंतुष्ट जेजेपी विधायक क्रॉस-वोटिंग के माध्यम से भाजपा का समर्थन कर सकते हैं या विधानसभा से अनुपस्थित रहकर भाजपा को विश्वास मत जीतने में मदद कर सकते हैं।

जेजेपी-कांग्रेस-आजाद का गठबंधन भी संभव नहीं

फिलहाल अगर कांग्रेस तीन निर्दलीय विधायकों और जेजेपी के साथ सरकार बनाना चाहेगी तो वो भी संभव नहीं है. ऐसा इसलिए क्योंकि अगर कांग्रेस के 30, जेजेपी के 10 और तीन निर्दलीय विधायकों को मिला दें तो कुल 43 विधायक ही बचते हैं जबकि बहुमत के लिए 45 विधायकों की जरूरत है. खेल तभी खेला जा सकता है जब शेष निर्दलीय विधायकों में से कम से कम एक हार जाए या INLA का समर्थन करे। हालाँकि, इसकी संभावना नहीं है.

सीएम सैनी ने कांग्रेस पर बोला हमला

तीन निर्दलीय विधायकों के समर्थन वापस लेने के बाद मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी की भी प्रतिक्रिया सामने आई है. उन्होंने कहा कि विधायकों की कुछ इच्छाएं हैं, कांग्रेस फिलहाल उनकी इच्छाओं को पूरा करने में लगी हुई है. लोग सब जानते हैं कि कोई क्या चाहता है। कांग्रेस को जनता की इच्छा से कोई लेना-देना नहीं है. मुख्यमंत्री का यह बयान हरियाणा में मौजूदा सियासी घमासान के लिए सीधे तौर पर कांग्रेस को जिम्मेदार ठहरा रहा है.

 

शैलजा ने कहा- नायब सैनी को इस्तीफा दे देना चाहिए

हरियाणा में सियासी उठापटक पर कांग्रेस नेता कुमारी शैलजा का भी बयान सामने आया है. उन्होंने कहा कि तीन निर्दलीय विधायकों के समर्थन वापस लेने से मौजूदा सरकार को काफी नुकसान हुआ है. ऐसे में संवैधानिक मर्यादाओं को देखते हुए सीएम नायब सैनी को इस्तीफा दे देना चाहिए. उन्होंने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की भी मांग की. कांग्रेस नेता ने कहा कि निर्दलीय विधायकों का कांग्रेस को समर्थन 2024 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत का संकेत है.

 

 

 

 

About The Author

RAGA NEWS ZONE Join Channel Now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *