अमृत वेले हुक्मनामा श्री दरबार साहिब, अमृतसर, अंग 682, दिनांक 03-04-2024

0
Share

 

अमृत ​​वेले हुक्मनामा श्री दरबार साहिब, अमृतसर, अंग 682, दिनांक 03-04-2024

 

 

धनासरी महला 5. जिस कौ बिसराई प्राणपति दाता सोइ गनहु अभागा॥ चरण कमल जा का मनु राग्यो अमिय सरोवर पगा।1। आपका जानू राम का नाम चमकेगा. आलसु चिजी गया सबु तन ते प्रीतम सिउ मनु लगा। रहना जह जह पेखौ तेह नारायण सगल गुज मह था गाग॥ नाम उड़कु पिवत जन नानक त्यागे सभी अनुरागा।2.16.47।

 

धनसारी महल 5 भाग्य विधाता को कौन भूला, कौन अभागा है। चरण कमल जा का मनु रागियो अमिय सरोवर पगा॥1॥ जागे तेरा जानू राम नाम रंगी। आलसु छीजी गैया सभु तन ते प्रीतम सिउ मनु लागा॥ रहना जह जह पेखौ तह नरैण सगल घटा मही तगा। नाम उड़कु पिवत जन नानक तिअगे सभी अनुरागा ॥2॥16॥47॥

 

भावार्थ:-हे भाई! उस आदमी को मनहूस समझो, जिसे जीवन का स्वामी भूल जाता है। जिस मनुष्य का मन भगवान के कोमल चरणों का प्रेमी बन जाता है, उस मनुष्य को आध्यात्मिक जीवन देने वाले नाम-जल का भंडार मिल जाता है।।1।। हे भगवान! आपका सेवक आपके ही नाम-रंग में (माया की माया से सदैव परिचित) रहता है। उसके शरीर से, उसके मन से सारा आलस्य दूर हो जाता है, (हे भाई!) वह प्रियतम में ही लगा रहता है। रहना अरे भइया! (उनके ध्यान के आशीर्वाद से) मैं (भी) जहां भी देखता हूं, वहां भगवान ही सभी शरीरों में धागे की तरह (सभी मोतियों में पिरोए हुए) मौजूद दिखाई देते हैं। हे नानक! भगवान के सेवक उनका नाम-जल पीते ही अन्य सभी आसक्तियों को त्याग देते हैं। 2. 19. 47.

 

भावार्थ:-हे भाई! उस आदमी को बदनसीब समझो, जिसे जिंदगी का मालिक भूल जाए। जिस मनुष्य का मन भगवान के कोमल चरणों का प्रेमी बन जाता है, उस मनुष्य को आध्यात्मिक जीवन देने वाले नाम-जल का सरोवर मिल जाता है।1.हे भगवन्! तेरा सेवक तेरे नाम-रंग में टिक के (माया के मोह की थाप से सदा सुचेत है) उस के शरीर में से सारा अलस आर्य गुडिया है.. अरे भइया! (उसके सुमिरन की बरकत के साथ) मैं (भी) जहां भी देखता हूं, ऊपर और ऊपर भगवान स्वयं सभी शरीरों में एक धागे की तरह (सभी मोतियों में पिरोया हुआ) मौजूद हैं। हे नानक! भगवान के दास उसका नाम-जल पेटे ही उर अर सार आज्ञा-पारा है।2.19.47।

About The Author

RAGA NEWS ZONE Join Channel Now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *