अमृत वेले दा हुकमनामा श्री दरबार साहिब, श्री अमृतसर, आंग 856, 25-06-2024

0
Share

 

अमृत वेले दा हुकमनामा श्री दरबार साहिब, श्री अमृतसर, आंग 856, 25-06-2024

 

बिलावालु। राखी लेहु हम ते बिगरी। सिलु धर्म जपु भक्ति न किनि हौ अभिमान तेध पगरि।1। रहना अमर जानि सांची ये काया ये मिथ्या काची गागरी जिनहि निवाजी सजी हम किये तिसा बिसारि अवर लागरी।1। संधिक तो साध नहीं कहियौ सारनी पारे तुमरी पगरी॥ केह कबीर इह बिनती सुनियहु मत घल्हु जम की खबरी 2.6.

 

हम ते = हम से, मुझ से। बिगरी = बिगाड़ा हुआ, बिगाड़ा हुआ, बुरा किया हुआ। सीलु = अच्छा स्वभाव। धर्म = जीवन का कर्तव्य। जपु = बंदगी। हूँ = मैं टेढ़ा = पंखदार पगड़ी=पकड़ना, पकड़ना । 1. ठहरना । अमर = {अ-मार्च} न मरने वाला, न नष्ट होने वाला। जानी = समझकर साँची=पालन-पोषण, पालन-पोषण। काया = शरीर। मिथ्या = नाशवान। गगरी = मटका। जिन्हि = जिसे (प्रभु) निवाजी = आदर सहित, अनुग्रह सहित। सजी = सृजन करके हम = हम, मैं। अवार = दूसरी तरफ.1. संधिक = चोर। तोह=तुम्हारा कहियौ = मैं कह सकता हूँ। तुमरी पगरी=तुम्हारे पैरों की। मत घल्हु = भेजो। खबरी = खबरी, सोइ.2.

 

 

हे भगवान! मेरा लॉज रखो मुझसे बहुत बुरा कर्म हुआ है कि मैंने अच्छा चरित्र नहीं बनाया, जीवन का कर्तव्य नहीं कमाया और आपकी सेवा, पूजा नहीं की। मैं सदैव अहंकारी रहा हूं, और टेढ़ी चाल में झूठ बोलता रहा हूं (कुटिलता पकड़ी गई है) 1. रहो। यह शरीर कभी नहीं मरेगा, यह सोचकर मैंने सदैव इसका पालन-पोषण किया। प्रभु की कृपा से जिसने मेरे इस सुन्दर शरीर की रचना की और मुझे जन्म दिया, मैं उसे भूलकर अन्य कार्यों में ही लगा रहा। (तो) कबीर कहते हैं (हे भगवान!) मैं आपका चोर हूं, मैं अच्छा नहीं कर सकता। फिर भी (हे भगवान!) मैंने आपके चरणों की शरण ली है; मेरी यह विनती सुनो, मुझे जमम दी सोइ न घल्लीं (अर्थात् मुझे जन्म-मृत्यु के चक्र में मत पड़ने दो)।

RAGA NEWS ZONE Join Channel Now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *