अमृत वेले दा हुकमनामा श्री दरबार साहिब अमृतसर , अंग 692, 17-06-2024

0
Share

 

अमृत वेले दा हुकमनामा श्री दरबार साहिब अमृतसर , अंग 692, 17-06-2024

जो जानु भौ भक्ति कच्छु जानै ता कौ अचरजू कहो ॥ जिउ जलु जल मह पैसा न निकसै तिउ धुरि मिलियो जुलाहो।1। हरि के लोगा मैं तौ मति का भोरा। जौ तनु कसि तजः कबीरा रमइय कहा निहोरा।1। रहना कहतु कबीरु सुनहु रे लोई भरमि न भूलहु कोय। किआ कासि किआ उखरु मघारु रामु रिदै जौ होइ 2.3।

अर्थ:- जनाई-संग है। ता कौ—उसके लिए। कहो अचर्जु – क्या अद्भुत काम है? कोई बड़ी बात नहीं। भुगतान करके धूरी – नरम हो जाने से, संयम खोने से 1. भोरा – भोला इसलिए तजः – त्याग दो । कबीरा – हे कबीर ! निहोरा-उपकार, उपकार 1. रहना रे लोई – अरे लोग! अगर दुनिया! (नोट:- ‘रे’ शब्द पुल्लिंग है, इसका स्त्रीलिंग ‘रे’ है। अतः कबीर जी यहां अपनी पत्नी ‘लोई’ का जिक्र नहीं कर रहे हैं)। उखरू—रंग। मघारू एक गांव का नाम है, ये गांव है यू. पी। यह बस्ती जिले में है. हिंदू लोग सोचते हैं कि यह स्थान शिव द्वारा शापित था, इसलिए यहां मृतकों को बचाया नहीं जा सकता।

 

भावार्थ:-जैसे पानी को पानी में मिलकर (फिर से) अलग नहीं किया जा सकता, उसी प्रकार (कबीर) जुलाहा भी अपना आपा खोकर भगवान में लीन हो गया है। इसमें कुछ भी असामान्य नहीं है, जो भी मनुष्य भगवान के प्रेम और भगवान की भक्ति के साथ जुड़ता है (उसका भगवान के साथ एक हो जाना कोई बड़ी बात नहीं है। 1. हे संतों! (लोगों के सामने) मैं विश्वास का कमल सही है (अर्थात लोग कहेंगे कि मैं कांशी छोड़ कर मगहर आ गया हूं) क्योंकि इन लोगों के विचार के अनुसार तो ध्यान से क्या लाभ? !मनुष्य को किसी भ्रम में नहीं रहना चाहिए (कि मोक्ष कांशी में मिलता है, मगहर में नहीं), यदि भगवान (नाम) हृदय में है, तो कांशी कीह और कालरथ मगहर कीह (दोनों जगह भगवान में लीन हो सकते हैं)। 2.3॥कहतु

RAGA NEWS ZONE Join Channel Now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *