CAA के तहत पहली बार 300 शरणार्थियों को मिली भारतीय नागरिकता, MHA ने दिल्ली में 14 को सौंपे सर्टिफिकेट

0
Share

 

केंद्र सरकार ने CAA लागू होने के बाद पहली बार 300 शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता दी है. बुधवार को केंद्रीय गृह सचिव ने ऐसे 14 लोगों को नागरिकता प्रमाण पत्र भी सौंपा. ये शरणार्थी पिछले कई सालों से भारतीय नागरिकता पाने की जद्दोजहद में लगे हुए थे.

नागरिकता (संशोधन) नियम, 2024 लागू होने के बाद बुधवार को पहली बार 300 लोगों को भारतीय नागरिकता दी गई। गृह मंत्रालय ने ऑनलाइन माध्यम से सभी को प्रमाणपत्र उपलब्ध कराए। वहीं, 14 लोगों को निशानी के तौर पर सर्टिफिकेट सौंपने के लिए दिल्ली बुलाया गया था. केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला ने 14 आवेदकों को प्रमाणपत्र सौंपने के साथ ही बधाई दी

 

सीएए इसी साल 11 मार्च को लागू हुआ था

केंद्र सरकार ने इसी साल 11 मार्च को नागरिकता संशोधन कानून यानी सीएए लागू किया था. इस अधिनियम के तहत भारत के तीन पड़ोसी देशों पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के प्रताड़ित अल्पसंख्यकों को भारतीय नागरिकता दी जानी है। हालाँकि, इस अधिनियम का लाभ केवल उन्हीं लोगों को दिया जा सकता है जो 31 दिसंबर या उससे पहले भारत आए हैं। इस अधिनियम के तहत पड़ोसी देशों के हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी और ईसाइयों ने आवेदन किया था।

सीएए के तहत, कोई भी भारतीय नागरिकता प्राप्त करने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकता है, जिसमें सबसे पहले भारत में आगमन की तारीख का उल्लेख करना होगा। आवश्यक दस्तावेज हैं जन्म प्रमाण पत्र, पहचान पत्र, तीन पड़ोसी देशों का कोई भी सरकारी प्रमाण पत्र, चाहे वह लाइसेंस हो या शैक्षणिक। इसके अलावा, आवेदक को एक पात्रता प्रमाण पत्र जमा करना होगा, जो पुष्टि करता है कि आवेदक हिंदू, सिख, बौद्ध, पारसी, ईसाई या जैन समुदाय से है। शर्त यह है कि आवेदक 31 दिसंबर 2014 से पहले भारत में शरणार्थी बन गया हो।

दिसंबर 2014 से पहले भारत में शरण लेने वाले आवेदकों को भारत का प्रमाणपत्र भी देना होगा, इसलिए पुराने वीजा, पैन कार्ड, बीमा पॉलिसी जैसे दस्तावेज मांगे जा रहे हैं। गौरतलब है कि पूर्वोत्तर के कुछ इलाकों को सीएए से छूट दी गई है।

 

 

 

About The Author

RAGA NEWS ZONE Join Channel Now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *