रवनीत सिंह बिट्टू बनेंगे केंद्रीय राज्य मंत्री, कहा-बीजेपी ने पूरा किया मेरा सपना, केंद्र और किसानों के बीच पुल बनकर काम करूंगा

0
Share

 

देश में तीसरी बार नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में नई सरकार बनने जा रही है. इस बार लोकसभा चुनाव में बीजेपी को पंजाब से एक भी सीट नहीं मिली है. यहां तक कि राज्यसभा में भी बीजेपी के पास पंजाब से एक भी सीट नहीं है. इसके बावजूद लुधियाना से बीजेपी उम्मीदवार रवनीत सिंह बिट्टू को कैबिनेट में जगह मिलने की चर्चा तेज है. इस संबंध में पत्रकारों से बात करते हुए रवनीत सिंह बिट्टू ने खुद मंत्री बनने की पुष्टि की है.

रवनीत बिट्टू ने मंत्री बनाए जाने की पुष्टि करते हुए बीजेपी नेताओं को धन्यवाद दिया. उन्होंने कहा कि यह मेरे लिए बड़ी जिम्मेदारी है. बिट्टू ने कहा कि प्रधानमंत्री ने कहा कि सभी सांसद एक जैसे हैं. सभी को ईमानदारी से कार्य करना चाहिए। मोदी कार्यकाल की इस कैबिनेट में दो सिख चेहरों को अहम जिम्मेदारी मिल सकती है. जिसमें रवनीत सिंह बिट्टू के साथ हरदीप सिंह पुरी का नाम भी शामिल है.

 

बिट्टू बन सकते हैं केंद्रीय राज्य मंत्री

लुधियाना के पूर्व सांसद रवनीत बिट्टू बन सकते हैं केंद्रीय राज्य मंत्री. हालांकि वह लोकसभा चुनाव में हार गए थे, लेकिन आज उन्हें दिल्ली बुलाया गया है. चर्चा है कि उन्हें हरियाणा से राज्यसभा भेजा जा सकता है. दरअसल, कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य दीपेंद्र हुड्डा के रोहतक से लोकसभा चुनाव जीतने के बाद यह सीट खाली हो गई है. इस सीट पर 6 महीने के भीतर चुनाव होने हैं. ऐसे में बीजेपी बिट्टू को यहां से उम्मीदवार बनाकर राज्यसभा भेज सकती है.

 

करीब तीन दशक पहले यानी 1991 में पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव की कैबिनेट में पंजाब का कोई मंत्री नहीं था. हालांकि इस कैबिनेट में तीन नाम डॉ. मनमोहन सिंह, बलराम जाखड़ और बूटा सिंह पंजाब से थे, लेकिन वे राज्य से चुनाव जीतकर संसद नहीं पहुंच सके.

 

क्या हैं पंजाब की 13 सीटों के नतीजे?

पंजाब लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने 7 सीटें, शिरोमणि अकाली दल (बादल) ने एक सीट, आम आदमी पार्टी ने तीन सीटें जीतीं, जबकि दो सांसद स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में जीते। ये दोनों निर्दलीय उम्मीदवार भी काफी लोकप्रिय चेहरे हैं. फरीदकोट से विजयी उम्मीदवार सरबीज सिंह, जो इंदिरा गांधी की हत्या में शामिल बेअंत सिंह के बेटे हैं, और खडूर साहिब से विजयी निर्दलीय उम्मीदवार अमृतपाल सिंह के खिलाफ एनएसए दर्ज किया गया है। वह फिलहाल असम की डिब्रूगढ़ जेल में बंद हैं। बीजेपी के पास एक भी ऐसा सांसद नहीं आपको बता दें कि 10वीं लोकसभा को छोड़कर आजादी के बाद से हमेशा पंजाब को प्रतिनिधित्व मिला है.

 

RAGA NEWS ZONE Join Channel Now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *