इंवेस्टमेंट पर मोटा रिटर्न देने के नाम पर ठगी करने वाले गैंग का पर्दाफाश, पांच गिरफ्तार

0
Share

 

सोशल मीडिया पर इन्वेस्टमेंट करने पर मोटे रिटर्न का विज्ञापन देखकर अगर आप इन्वेस्ट करने की सोच रहे हैं तो सतर्क हो जाइए. गाजियाबाद में पुलिस ने एक ऐसे गैंग का पर्दाफाश किया है जो सोशल मीडिया पर एड चलाकर निवेश करने पर मोटे रिटर्न का लालच देकर लोगों से ठगी करता था. शुरुआत में गैंग लोगों को छोटे इन्वेस्टमेंट पर मोटा रिटर्न देता था लेकिन जब लोग बड़ा इन्वेस्टमेंट करते तो यह गैंग लोगों के पैसे लेकर भाग जाता था.

 

थाना कौशांबी के साइबर टीम को मुखबिर के माध्यम से सूचना मिली. सूचना के आधार पर पांच लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया. आरोपियों के कब्जे से फर्जी मोहर, 10 मोबाइल फोन, एक टैबलेट, 41 बैंक अकाउंट के एटीएम और क्रेडिट कार्ड, पांच चेक बुक, फर्जी वोटर आईडी, पैन और आधार कार्ड बरामद किए गए. आरोपी सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को पैसे इन्वेस्ट करने पर मोटे रिटर्न का लालच दिया करते थे.

 

शुरुआत में कई राज्यों में आरोपियों ने लोगों को मोटा रिटर्न भी दिया. इसके बाद लोगों ने मोटा अमाउंट इन्वेस्ट किया. मोटा इन्वेस्टमेंट लेने के बाद आरोपी जवाब देना बंद कर देते और ग्रुप खत्म कर देते थे. इसी तरह आरोपियों द्वारा लोगों से ठगी की जा रही थी. आकाश त्यागी मनोज कुमार अमरेश कुमार नमन जैन और नीतीश समेत पांच आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

 

पुलिस के मुताबिक़ आरोपियों द्वारा लोगों को फंसाकर लाखों करोड़ों रुपए की ठगी की जा चुकी है. आरोपियों द्वारा दिल्ली एनसीआर में प्रॉपर्टी को किराए पर लेकर फर्जी कंपनी ऑफिस खोलते थे. कंपनी का रजिस्ट्रेशन पूरा होने के बाद दो हफ्ते तक आरोपियों द्वारा ऑफिस से फर्जीवाड़ा किया जाता था. लोगों से ठगी करने के बाद बैंक खाते में पैसे पहुंचते ही आरोपी ऑफिस को खाली कर भाग जाया करते थे.

 

आरोपी जरूरतमंद लोगों के डाक्यूमेंट्स लेकर फर्जी बैंक खाता खोलते थे और इन बैंक खातों में पता भी फर्जी होता था. कंपनी के नाम से बैंक खाता खोलने के बाद आरोपी बैंकिंग संबंधित दस्तावेज अपने पास रख लेते और जरूरतमंद लोगों को कमीशन के रूप में कुछ पैसे दे दिया करते थे. कंपनी का भी पता फर्जी होता था. जिससे की वे आसानी से पकड़ में ना आ सके.

डीसीपी ट्रांस हिंडन निमिष पाटिल के मुताबिक आरोपियों द्वारा सैकड़ों लोगों को फंसा कर ठगी की जा चुकी है. कम समय में काफी ज्यादा ट्रांजैक्शंस अकाउंट में हुए हैं. जिससे पता चलता है कि आरोपियों द्वारा बड़े स्तर पर फर्जीवाड़ा किया जा रहा. आरोपी ठगी करने के बाद ऑफिस को बंद कर नई जगह पर दूसरा ऑफिस खोल लिया करते थे.

 

 

RAGA NEWS ZONE Join Channel Now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *