अमृत वेले दा हुकमनामा सचखंड श्री दरबार साहिब, अमृतसर, अंग 725, 03-06-24

0
Share

अमृत वेले दा हुकमनामा सचखंड श्री दरबार साहिब, अमृतसर, अंग 725, 03-06-24

तिलंग महला 4. हरि किया कथा कहानी गुरि मीति सुनाई। बलिहारी गुर ने अपने ही गुरु का बलिदान दिया1. ऐ मिलु गुरसिख ऐ मिलु आप मेरे प्रिय गुरु हैं। रहना हरि के गुण हरि भवदे से गुरु गुरु का भाना मानने वाले को पलट देना चाहिए 2. जिन सतगुरु प्यारे तीन बार देखा। जिन गुर की करि चकरि तिन सद बलिहारी॥3॥ हरि हरि आपका नाम दुखों का नाश करने वाला है। गुरु सेवा पर गुरुमुख निस्तारा पाया।।4।। जो हरि ध्यादे और जन परवाना नाम॥ तीन बार नानकु वर्या सदा सदा कुरबाना 5। सा हरि तेरी स्तुति जो हरि प्रभ भवै। जो गुरुमुखी से प्रेम करते हैं, वे तीन हरि फ्लू पावई की सेवा करते हैं। जिना हरि सेति पिरहरि तिना जिया प्रभ नाले। ओइ जपि जपि प्रिय जीव हरि नामु समले।7। जिन गुरुमुखी पीरा सेव्या तिन कौ घुमि जया ॥ ओह, आपने परिवार को बचा लिया, आपने पूरी दुनिया को बचा लिया। गुरु प्यारे हरि सेव्या गुरु धन्नु गुरु धन्नो गुरु हरि मार्गु दास्य गुरु पुन्नु वद पुन्नो।9। जो लोग गुरसिख गुरु की सेवा करते हैं वे शुद्ध और बूढ़े होते हैं। जानु नानकु तिन कौ वर्या सदा सदा कुर्बानी गुरुमुखी साखी सहेलिया से आपि हरि भया। हरि दरगह पनइया हरि आपि गली लाया 11। जो गुरुमुखी नामु ध्याइदे तिन दर्सनु दीजै ॥ हम तीन बार पैर धोते हैं और धूलि पीते हैं 12. पान सुपारी खटिया मुख बीदिया बिछाई। हरि हरि ने कभी चेतियो 13 की जमीन नहीं पकड़ी। जिन हरि नाम हरि चेत्या हृदय उरी धरे॥ तीन जामु नेदी न आई गुरसिख गुर प्यारे 14। गुरुमुखी कोई नहीं जानता। सतगुरु के चढ़ाए रंग का आनंद लेने वाले नानक।।15।। सतगुरु दाता आखियै तुसी करे पासाओ॥ हौ गुर विथु सद वार्या जिनि दित्र नाओ ।। सो धन्नू गुरु सबसी है हरि देई स्नेहा। मैंने देखा, मैंने देखा, गुरु विज्ञान, गुरु सतगुर देहा 17। गुर रसना अमृतु बोलदि हरि नामि सुहावि। जो गुरू की बात सुनेगा और गुरू मानेगा, उसकी भूख मिट जायेगी।18। हरि का मरगु अखिया काहु कितु बिधि जाई। हरि हरि नाम है तुम्हारा। जिन गुरुमुखी हरि आराध्या, महासांस दियो। हौ सतगुर कौ सद वारया गुर बचानि समाने।। तुम ठाकुरु, तुम श्रीमान, तुम मेरी मीरा हो। तुधु भवै तुम्हारा सेवक तू गुणी गहिरा।।21।। वानर हरि एक रंग है, वानर बहुरंगा है। जो तिसु भाई नाना सै गैल चेंगी 22.2.

 

तिलंग महला 4. हे गुरसिख! मित्र गुरु ने (मुझे) भगवान की महिमा बताई है। मैं गुरु के लिए बार-बार बलिदान होता हूं। हे मेरे गुरु के प्यारे सिख! आओ और मुझसे मिलो, आओ और मुझसे मिलो. हे गुरसिख! भगवान के गुण (गायन) भगवान को प्रसन्न करने वाले हैं। मैंने वे गुण (गायन) गुरु से सीखे हैं। जिन (प्रतिभागियों) ने गुरु की आज्ञा (मधुर भाव से) स्वीकार की है, उनसे मैं बार-बार बलि चढ़ता हूँ। हे गुरसिख! जिन लोगों ने प्रिय गुरु के दर्शन किये हैं, जिन्होंने गुरु की सेवा की है, मैं सदैव उनसे दान लेने जाता हूँ। हे हरि! आपका नाम सभी दुखों को दूर करने में सक्षम है, (लेकिन यह नाम) केवल गुरु की शरण में ही मिलता है। गुरु के सान्निध्य में रहकर ही व्यक्ति (संसार-सागर से) पार हो सकता है। हे गुरसिख! जो लोग भगवान के नाम का ध्यान करते हैं, वे लोग (भगवान की उपस्थिति में) स्वीकार किए जाते हैं। नानक तें बलिहार, जात सदा दान॥5॥ हे हरि! हे भगवान! वही तारीफ़ आपकी तारीफ़ कही जा सकती है जो आपको पसंद हो. (हे भाई!) जो मनुष्य गुरु के सान्निध्य में प्रिय भगवान की सेवा करते हैं, भगवान उन्हें (सुखद) फल देते हैं।6। अरे भइया! जो लोग भगवान के प्रेम में पड़ जाते हैं, उनका हृदय (हमेशा) भगवान के (चरणों में) लगा रहता है। वे लोग अपने प्रिय भगवान का निरंतर ध्यान करके, भगवान का नाम अपने दिल में रखकर आध्यात्मिक जीवन प्राप्त करते हैं। अरे भइया! मैं उन लोगों से धन्य हूं जिन्होंने गुरु की शरण में आकर प्यारे भगवान की सेवा की है। वह मनुष्य (अपने) परिवार सहित (संसार-सागर के दोषों से) बच गया, उन्होंने पूरे विश्व को भी बचा लिया है। अरे भइया! गुरु सलाहुँ-जोग है, गुरु सलाहुँ-जोग है, प्रिय गुरु (केवल) के माध्यम से मैंने भगवान की सेवा शुरू की है। गुरु ने मुझे ईश्वर से मिलन का मार्ग बताया है। गुरु की कृपा (मुझ पर) महान कृपा है।9। अरे भइया! गुरु के जो सिक्ख गुरु (दासी) की सेवा करते हैं, वे भाग्यशाली हो गए हैं। दास नानक उनके पास दान के लिए जाते हैं, वे सदैव बलि चढ़ते हैं।10। अरे भइया! गुरु (परस्पर प्रेम से रहने वाले सत्-संगी) मित्रों की शरण में जाकर (ऐसे बन जाते हैं कि) वे स्वयं को भगवान का प्रिय पाते हैं। उन्हें भगवान के यहां आदर मिलता है, भगवान ने उन्हें (हमेशा के लिए) अपनी गर्दन से उठा लिया है.11. हे भगवान! जो गुरु की शरण में आकर (आपके) नाम का ध्यान करते हैं, मुझे उनका दर्शन दीजिए। मैं उनके पैर धोता रहता हूं और उनकी चरण-धूलि पीता रहता हूं।12। अरे भइया! जो प्राणी सुपारी आदि खाते रहते हैं, मुंह में सुपारी चबाते रहते हैं (अर्थात सदैव भौतिक सुखों में ही डूबे रहते हैं) और जो भगवान के नाम का कभी ध्यान नहीं करते, वे मृत्यु के घेरे में फंस जाते हैं। K आगे लाया (हमेशा के लिए) (वे चौरासी के दौर में गिर गए)। अरे भइया! जिन्होंने अपने हृदय में भगवान के नाम का ध्यान किया है, उन गुरु के प्यारे गुरसिखों को मृत्यु का भय नहीं रहता। अरे भइया! भगवान का नाम एक खजाना है, कोई दुर्लभ व्यक्ति गुरु की शरण में जाता है और उसे (नाम के साथ) मिलन मिलता है। हे नानक! (अख-) जिन लोगों को गुरु मिलता है, वे (प्रत्येक व्यक्ति) हरि-नाम के प्रेम में जुड़कर आध्यात्मिक आनंद प्राप्त करते हैं।15। अरे भइया!गुरु को (नाम का) दाता कहना चाहिए। गुरु तो जल्दी से कृपा (नाम देने की) कर देते हैं। मैं (तब) सदैव उस गुरु को बलि चढ़ाता हूं, जिसने (मुझे) भगवान का नाम दिया है। अरे भइया! वह गुरु सलाहन जोग है, उस गुरु की महिमा होनी चाहिए, जो भगवान का नाम जपना सिखाता है। गुरु के (सुन्दर) शरीर को देखकर मैं खिल रहा हूँ।17। अरे भइया! गुरु की जीभ जीवनदायी हरि-नाम का उच्चारण करती है, हरि-नाम (उच्चारण के कारण सुंदर दिखता है)। जिन सिखों ने (गुरु की शिक्षा) सुनने के बाद गुरु में विश्वास किया है, उनकी सारी भूख (माया के लिए) दूर हो जाती है 18. इसे भगवान का मार्ग कहा जाता है, हे भगवान! इस मार्ग पर चलना चाहिए, हे भाई! , गुरु के वचन से, मैं लीन हो सकता हूं। 20. आप मेरे स्वामी हैं, आप मेरे शासक हैं, यदि आप इसे पसंद करते हैं, तो आप गुणों का खजाना हैं, हे नानक) के कई रूप हैं 22.2 प्राणियों की भलाई के लिए है।

 

 

RAGA NEWS ZONE Join Channel Now

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *